All posts by Bhola Prajapati

Hallo Greetings I am founder of "Garima berojagari unmulan samiti" regd ngo of up india and working for skill development of girls. That ngo is reconize of government of up, india. I want to say that our planning is to startup corporate soft skill training and placement company. Please advise me. Your advise can be valuable for me. I want to start form Jaunpur and want to provide corporate soft skills training for corporate sectors and graduate person in all over up India. I want to make a team of trainer of soft skill who train to students form post graduate college's in up. also provide corporate soft skill training online. I can take up classes in companies and factories. because skills need for companies and factories are Critical and analytical thinking, problem solving, data analysis (drawing conclusions), communicating and presenting findings, and decision making were  the specific skills identified.The bottom skills included data prep (business math, data manipulation, Excel, other tools), contextual thinking, and visualization and visual analytics. In other words, the key skills were those associated with making decisions, not making spreadsheets. That our company can provide them. There are many markets forces but I want to use our 200 people networks. Our network of client and employees are our market force. I want to start only 5 team strength who is my follower. what is other idea for how to improve strategies to market and team strength for soft skill training industry. Write your mobile no in the comment or any other comment who interested my plan. Feel free to visit me and send email also gbusjaunpurorg@gmail.com Our moble number: 7897015647 Web address: www.power26.com Regards Bhola Prajapati

How to become wealty by improve relationship read in hindi

हम सभी लोग धनी बनना चाहते है लेकिन यह नही जानते कि धनी बनने के लिये हमे क्या करना होगा |
 "सफलता की शूरूवात वही से होती है जहा हम खड़े होते है"

-: भोला प्रजापति प्रेरक वक्ता :-
जी हाँ, अक्सर हम सफलता की सीढ़ी के दूसरे डण्डे पर चढ़ने के बाद पहले डण्डे को भूल जाते है और तीसरे डण्डे पर पहुँचने के बाद पहले व दूसरे डण्डे को भूल जाते है , और यह क्रम चलता रहता है | जी हाँ, हम यह नही भाप पाते कि जिस पहले डण्डे को हम भूल गये उसने हमे तौल लिया था और हमारी वजन के बारे मे दूसरे डण्डो से बताता फिर रहा है कियह आदमी जिसको मैने सहारा दिया ,उसके वजन को उठाया , दूसरे डण्डे पर चढ़ने मे मदद किया वह हमे भूल गया |
 " हर आदमी जिसके पास से हम गुजरते है या जो मेरे पास से गुजरता है , वह हमारा प्रचारक है "
 -: भोला प्रजापति प्रेरक वक्ता :- 
हम जिस दिन से इस दुनिया मे कदम रखते है उसी दिन से हमारा प्रचार शूरु हो जाता है | हमारी अच्छाइओ और बूराईयो का गुणगान शूरू हो जाता है , कौन करता है जिसके पास से हम गुजरते है या जो मेरे पास से गुजरता है | हमे मानव के इस स्वभाव का फायदा उठाने के काबिल बनना पड़ेगा क्योकि हर ब्यक्ति प्रचारक है , और वह वही प्रचार करता है , जो वह देखता है, जो वह सुनता है, जैसा व्यवहार पाता है | अगर हम अपने उत्पादन या सेवा की प्रशंसा सुनना चाहते है , अच्छा प्रचार पाना चाहते है तो सबसे पहले हमे ऐसा बनना पड़ेगा , ऐसा दिखना पड़ेगा, जो लोगो को मेरी तरफ आकर्षित करे,जो लोगो को मेरे पास तक आने के लिये प्रेरित करें | जब लोग नेरे पास तक आ जाये तो हमे उसके साथ सबंध बनाने का अवसर मिलता है | यही धनी बनने की सीढ़ी का पहला डण्डा है , जिसको हमे नही भूलना चाहिये |
 "जब कोई बच्चा छोटा होता है तो लोग उससे विना शर्त प्रेम करते है, वही बच्चा जैसे जैसे बड़ा होता तो उसे शर्तो के आधार पर प्रेम मिलता है"
 -: भोला प्रजापति प्रेरक वक्ता :-
 हमे यह जानना होगा कि प्रेम पाने के लिये हमे कौन सी शर्ते पूरी करनी है यह बहुत ही महत्वपूर्ण है जिसको नजरअन्दाज नही किया जा सकता | जब आप छोटे होते है तो लोग विना शर्त , विना किसी अपेच्छा के प्रेम करते है लेकिन बाद मे आपसे अपेच्छा रखने लगते है ,वे चाहते है कि आप भी उनकी परवाह करें , उनको सुने, उनकी समस्याओ को समझे, और उसका निदान करे | तो हमे लोगो का परवाह करने,सुनने,समस्याओ को समझने और उसका निदान करने के काबिल बनना होगा | यही धनी बनने के सीढ़ी का दूसरा डण्डा है जिसे हमे नही भूलना चाहिये | किसान को खेती करने के लिये खेत का होना जरूरी है,व्यापार करने के लिये मानव का होना जरूरी है |
 " किसान को खेती के लिये खेत तथा व्यापारी के लिये लोग उसके संसाधन है "-: भोला प्रजापति प्रेरक वक्ता :- 

 

तो सवाल उठता है कि नया ग्राहक कैसे बनाये ? पूराने ग्राहको को कैसे बनाये रखे ? कैसे अपने निजी सबंधो को जिन्दा रखे? सबसे पहले हमे अपनी धारणाओ, और विश्वास की समीच्छा करनी होगी, और दूसरे लोगो के विश्वास को समझकर अपने बिश्वास से जोड़ना होगा और ऐसा तब संभव होगा जब हम अपनी सेवाओ, उत्पादन पर पूरा भरोषा करेंगे कि यह हमारे ग्राहको के लिये १००% लाभदायी है | 

आईये देखते है ऐसा कैसे किया जाता है, -----
" पहला ग्राहक बनाने से पहले खुद ग्राहक बने" 
-: भोला प्रजापति प्रेरक वक्ता :-
 जी हाँ पहला ग्राहक बनाने से पहले खुद ग्राहक बनना पड़ेगा, ग्राहक की तरह सोचना होगा, ग्राहक की तरह बोलना होगा, ग्राहक की तरह व्यवहार करना होगा |