How to get rich quick poor by change habits read in hindi

“दस आदतें गरीब लोगों को धनीं नही बननें देंती है।” [Ten Habits not make poor people rich.]

अगर अमीर जल्दी बनना चाहते है तो गरीबो को नीचे लिखी आदतो को जल्दी से बदल लेना चाहिये।

[1]गरीब लोगो की संयुक्त परिवार से अलग रहने की आकांक्षा।

 [Poor people’s living apart form the joint family spirit.] मै गरीबी के कारण का पता लगाने के लिये गरीब परिवारो के बीच काफी समय बिताने के बाद इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि उनके अन्दर सयुक्त परिवार से अलग रहने की भावना प्रबल रुप से स्थापित है। और गरीब परिवारो के अभिवावक भी अलग परिवार की भावना से ओतप्रोत है । वे परिवार जो सयुक्त परिवार से अलग है उन्हे अपनी नयी गृहस्थी बसाने मे कई साल लग जाते है कम से कम दस साल तो लग ही जाते है और वे जब कुछ अलग बनने की तैयारी करना चाहते है तो नई जिम्मेदारिया उन्हे बेबस और लाचार कर देती है। और जिन्दगी भर वे सिर्फ जिम्मेदारी पूरा करते रहते है और जब वे जिम्मेदारी के बोझ से कुछ समय तनावमुक्त होते है तो तब तक कुछ नया करने या बनने का उत्साह मर जाता है और यही प्रक्रिया तब तक अगली पीढ़ी के लिये प्रारम्भ हो जाती है। इस लिये हमे सयुक्त परिवार मे रहने की आदत डालनी चाहियें क्योकि दस साल का समय नई गृहस्थी बसाने की जगह नये कौशल मे प्रवीण होने मे लगाना समझदारी पुर्ण कार्य है। नये कौशल मे प्रवीण होने से कमाने की क्षमता बढ़ जाती है । और अमीर बनने का रास्ता खुल जाता है । दस साल मे कोई भी ब्यक्ति किसी भी एक कौशल मे प्रवीण हो जाता है और अपनी जिम्मेदारियो को पूरा करने मे सक्षम हो जाता है।
सोचने की जरूरत है कि अलगाव की स्थिती कैसे बनती है । मेरे अनुभव से अलगाव के मुख्य तीन कारण है:
[1]परिवार के कुछ सदस्यो का आलसी होना और घरेलू कार्यो मे बराबर योगदान न देना।
[2]परिवार के कुछ सदस्यो की कमाने की क्षमता कम होना और जल्दी भविष्य मे उनके खर्चो की बढ़ने की सम्भावना होना।
[3]परिवार के सदस्यो की अनुशासनहीनता और एक दूसरे का सम्मान न करना।
इन कारणो को समाप्त करके आपसी समझ को बिकसित करके हम अलगाव की भावना को समाप्त कर सकते है और अपने जीवन के दस वर्षो के कीमती समय को बचाकर इस अमूल्य समय को किसी कौशल मे पारंगत होने मे इस्तेमाल कर सकते है और अपनी कमाने की क्षमता बिकसित करके अपने परिवार मे संगठनात्मक शक्ति का बिकास कर सकते है।
“Our poverty is strongly linked to our habits and behavior.To avoid alienating so we should honor all the family members and the household duties and have more to contribute.”
“हमारी गरीबी दृढ़ता से हमारी आदतो और व्यवहार से जुड़ा हुआ हैं।इसलिये हमे अलगाव की भावना से बचकर परिवार के सभी सदस्यो का सम्मान करना चाहियें तथा घरेलू कार्यो में अधिक योगदान देना चाहियें।”

[2]प्रतिबद्धता की ईमानदारी और निष्ठा का अभाव।

 [Lack of commitment to honesty and integrity.] बहुत कम ही गरीब लोग निष्ठावान और वादों के प्रति दृढ़ संकल्पी होते है। हमारे संस्कार और रहन-सहन मे ईमानदारी और निष्ठा के अभाव के कारण हम अमीर नही बन पाते है,क्योकि इसके कारण लोगो से जुड़ने की हमारी क्षमता कमजोर हो जाती है तथा हम विश्वास खो देते है। कुछ लोग भय के कारण निष्ठावान और संकल्पित होते है,चाहे वह नौकरी जाने का भय हो या अन्य किसी प्रकार का भय। ग्राहक उसके पास अधिक होते है जो अपने वादों को सच कर रहे है। यदि हम वास्तव मे अमीर बनना चाहते है तो स्वेच्छा से अपने कार्य और व्यवहार के प्रति निष्ठावान और अटल बनना पड़ेगा।

[3]निश्चित दिनचर्या तथा दूरदृष्टि का अभाव।

 [Lack of certain routine and vision.] गरीबी का एक कारण बिना किसी योजना के कार्य संपन्न करना और जो सामने कार्य है उसी करते हुये दिन समाप्त कर देना है।कार्य को प्रारम्भ करने से पहले उस पर कोई सोच विचार नही किया जाता है। भविष्य के बारे मे सोचने का समय ही नही है उनके पास। दूरदृष्टि का अभाव होने के कारण ऐसा किया जाता है। वे उसी प्रकार देखते है जैसे मेंढ़क को कुआँ मे ही उसका संसार दिखता है। अमीर बनने के लियें कुअॉ से बाहर की चीजो को देख पाने की क्षमता बिकसित करना होगा।

[4]तत्कालिक लाभ की आकांक्षा।

  [Aspirations of immediate gain.]

[5]मालिक नही नौकर बनने की लालसा।

 [The desire to be a servant not master.]

[6]किसी का सम्मान न करना।

 [Do not respect anyone.]

[7]नकारात्मक भाषा शैली।

 [Negative language style.]

[8]जोखिंम उठाने की आदत न होना।

 [Not used to taking risks.]

[9]कार्य सूची का अभाव तथा अव्यवस्थित रहने की आदत।

 [The absence of task list and it used to be disorganized.]

[10]कार्य योजना का अभाव।

 [Lack of action plan.]


Submit Your Site To The Web's Top 50 Search Engines for Free!